ध्यान क्‍यों?

ध्यान क्‍यों?

$5 CAD

“Dhyan Kyon?” (Why Meditation? – Hindi Version)

इस पुस्तक के द्वारा पाठक की चेतना का ध्यान की स्थिति में और आत्मज्ञान में, जो कि स्वतंत्र और निर्मल है, साक्षात रूपान्तरण किया गया है।आकर्षक विधि और आत्मीय ढ़ंग से लिखे शब्दों में इस पुस्तक में श्याम ध्यान की क्रिया(स्पेस मेडिटेशन) भी सम्मिलित है।स्वामी श्याम जी के साक्षात् दर्शन का मार्ग ध्यानी को शुद्ध(परम) ज्ञान की प्रक्रिया को समझने में समर्थ बनाता है। यह पुस्तक अंग्रेजी पुस्तक “मीट योर ट्रू सेल्फ थ्रू मेडिटेशन” से पूर्व प्रकाशित हुई थी। इस पुस्तक की लोकप्रियता के कारण तीन संस्करण प्रकाशित किए गए हैं।

SKU: B013 ISBN: 81-88352-12-8
Date Published: 1986
Number of Pages: 134
Category:
  • Additional information

Additional information

Book Author

Binding